Veto Power kya hai | Veto Power full form | वीटो पॉवर के सदस्य | WHAT IS VETO POWER?

वीटो पावर के बारे में जानकारी (INFORMATION ABOUT VETO POWER) :


हेल्लो दोस्तों आज हम आपके लिए बहुत की महत्वपूर्ण विषय लेकर आये है, क्या आप Veto Power के बारे में जानते है, अगर आप वीटो पॉवर (संयुक्त राष्ट्र निषेधात्मक) के बारे में बताने वाले है, जैसे -Veto Power क्या है? (What is Veto Power in hindi), Vwto Power Country,Veto Power full form in hindi, वीटो पॉवर वाले देश कौन कौन से है? आदि 

Veto Power in hindi
Veto Power kya hai


वीटो पावर क्या है? (What is Veto Power in hindi)

Veto Power UNSC (United Nations Security Council) के सिर्फ 5 ही सदस्यों को यह वीटो पॉवर मिला है,  संयुक्त राष्ट्र संघ परिषद् में किसी प्रस्ताव को जाया जाता है तो 5 स्थायी सद्श्यो का काम होता है उस प्रस्ताव पर विचार करना, अगर उनमे से किसी एक भी सदस्य उस प्रस्ताव से असहमत होता है तो वह प्रस्ताव को ख़ारिज कर दिया जाता है, वह पास नहीं होता. इसे ही वीटो पॉवर (Veto Power) कहा जाता है.



वीटो पावर फुल फॉर्म (Veto Power full form) :

Veto एक लेटिन भाषा का शब्द है, और लेटिन भाषा में वीटो शब्द का अर्थ होता है की "निषेध करना". Veto का फुल फॉर्म "I forbid" है. 


वीटो पावर का इतिहास (History of veto power) :

अब तक डो विश्व यूद्ध हो चुके है जिसमे करोडो की संख्या में निर्दोष लोगो का नरसंहार हुआ है आईसी घटना दुबारा न दोहराई जाए इसलिए इस विसे अधिकार को पारित किया गया था.

सबसे पहले इस जब राष्ट्रीय संघ का गठन हुआ उस समय चार अस्थाई और स्थाई देशो हो यह अधिकार प्राप्त थे जिसमे अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, और रूस शामिल थे, लेकिन दुसरे विश्व युद्ध के दोरान जब जर्मनी से हार के बार फ्रांश ने इस संगठन में अपनी भूमिका को बनाये रखा, और जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् की सत्ता आई तो इन्ही 5 स्थायी देशो को या विशेषाधिकार यानि Veto Power दिए गए.


वीटो पॉवर का उद्धेश्य :

वीटो पॉवर का उद्द्येश्य विश्व में सुरक्षा और शांति को कायम रखने और किसी भी बड़े संकट या युद्ध को बातचीत के माध्यम से टाला जा सके. 



वीटो पॉवर वाले देश (Member of Veto Power) :

वीटो पवार United Nations Security Council के 5 स्थाई सदस्यों के पास है, जो निम्न है-
  1. अमेरिका 
  2. इंग्लेंड 
  3. फ़्रांस 
  4. रूस 
  5. चीन.
इन देशो के पास वीटो पवेर है, इनकी सहमती के बिना सुरक्षा परिषद् में ओई भी प्रस्ताव को पास नहीं किया जा सकता है. 


किस देश ने कितनी बार वीटो इस्तेमाल किया? (USE OF VETO) :

वीटो पॉवर का प्रयोग सभी सदस्य परिस्थितो के अनुसार करते है, जिसमे अभी तक सबसे ज्याद बार रूस (सोवियत संघ) ने इसका प्रयोग किया है, रूस ने Veto Power का प्रयोग कुल 176 बार किया है उसके बाद अमेरिका ने वीटो पॉवर का प्रयोग कुल 76 बार किया है,  ब्रिटेन ने वीटो पॉवर का इस्तेमाल 32 बार किया है, फ्रांस ने वीटो पॉवर को 18 बार इस्तेमाल किया है, और सबसे कम वीटो पॉवर का इस्तेमाल करने वाला देस चीन है जिसने अब तक कुल 5 बार ही वीटो पॉवर का इस्तेमाल किया है, 

वीटो पॉवर कैसे मिलता है (How To Get Veto Power) :



FAQ :

पहली बार कब इस्तेमाल हुई वीटो पावर?
Ans : रूस (सोवियत समाजवादी गणराज्य ) ने 16 फरवरी सन 1946 को Veto Power का इस्तेमाल किया था .


Q. रूस ने पहली बार कब इस्तेमाल हुई वीटो पावर?
Ans : रुस की तरफ से कश्मीर मुद्दे पर भारत की पक्ष में पहली बार सन 1957 में वीटो पवेर का इस्तेमाल किया गया था.


Q. किस देश के पास है veto power?
Ans : अमेरिका, रूस, चीन, ब्रिटेन, फ़्रांस.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ