Bird flu virus : Bird Flu वायरस क्या है? बर्ड फ्लू से बचने के उपाय | Symptoms of bird flu in humans |

इस नये साल ने आते आते एक नई बीमारी को भी ला लिया है. जिसका नाम Bird flu है, भारत के कई राज्यों में bird flu ने दस्तक दे दी है. जो कि एक चिंता का विषय बन चुका है. इस चिंता को मद्देनजर रखते हुए सरकार ने भी कई राज्यों को सतर्क कर दिया है.


Bird Flu news topkhabar89

मध्य प्रदेश, राजस्थान, केरल, हिमाचल प्रदेश, जैसे बड़े राज्यों में इस bird flu की दस्तक हो चुकी है. जिससे बचने का तरीका हर कोई ढूंढ रहा है।


आइये जानते है Bird flu से कैसे बचा जा सकता है? Bird flue फैलाने का कारण , लक्षण , बचाव और भी बहुत कुछ सी जानकारी आज हम इस आर्टिकल में आपको देने वाले हैं ।



क्या है Bird flu : (Bird flu details in hindi )

Bird flu को एवियन इन्फ्लूएंजा भी कहते हैं. बर्ड फ्लू वायरस कबूतर, चिकन, जैसे पक्षियों में पाया जाता है. जिनके कारण यह बर्ड फ्लू फैलता है. bird flu के 11 virus होते है, जिसमें से 5 virus इंसानों को सबसे ज्यादा संक्रमित करते हैं. यह संक्रमण बर्ड फ्लू के जरिये इंसानों को संक्रमित करते है. 

इसमें बहुत सारे स्ट्रेन पाए जाते है, इसमें से कुछ तो माइल्ड होते है. जबकि कुछ बहुत अधिक संक्रामक होते है जिसके कारण पक्षियो के मरने का भी खतरा बहुत बड़ जाता है. 

यह corona virus से भी घातक बीमारी है. bird flu अब तक 60+ से भी अधिक देशो में बड़ी ,महामारी का रूप ले चूका है.

Bird flu के प्रकार: 

bird flu के 11 virus है जिसमें से 5 virus इंसानों को सबसे ज्यादा संक्रमित करते हैं -
  • H5N, 
  • H7N3, 
  • H7N7, 
  • H7N9,
  • H9N2 .

इन सभी 11 virus को HPI कहा जाता है. यह virus पक्षियों के जरिए इंसानों में फैलता है, इन सब में सबसे ज्यादा खतरनाक virus H5N1 है , H5N2 virus हवा के द्वारा फैलता है, साथ ही यह virus तेजी से म्यूटेशन भी करता है, 
H5N1 virus चीन में सबसे पहले 1997 में आया था।


कौन-कौन से पक्षियों में ये virus फैलता है :

Bird flu से संक्रमित जीवित या मृत पक्षियों के संपर्क में आने से यह virus फैलता है, यह virus एक पक्षी से दूसरे पक्षी में फैलता है। जिससे ये सबसे ज्यादा जानलेवा हो सकता है. यह चिकन, टर्की, गीस, मोर और बत्तख जैसे पक्षियों में यह virus बहुत ज्यादा तेजी से फैलता है, इस virus का संपर्क पक्षियो के साथ-साथ इंसान पर भी होता है जिससे इंसान भी bird flu के शिकार हो जाते हैं।

कुछ विशेषज्ञों ने विदेशी पक्षियों के आने के साथ ही bird flu के जल्द ही फैलने की आशंका जताई है। मध्यप्रदेश में सैकड़ों की संख्या में कौए मर रहे हैं. जिनमें bird flu का वायरस मिला है।


Bird flu के लक्षण :

Bird flue के लक्षण भी सामान्य flu जैसे होते हैं।
  1. सांस लेने में समस्या 
  2. उल्टी दस्त का असमय होना
  3. बुखार 
  4. नाक बहना
  5. सिर दर्द मांसपेशियों में दर्द 
  6. गले में सूजन 
  7. आंख में कंजेक्टिवाइटिस


इंसानों में कैसे फैलता है Bird flu: 

यह flu पक्षियों के जरिए इंसानों में फैलता है इंसानों में यह flu आंख, नाक और मुंह के जरिए प्रवेश करता है।
अगर आप किसी संक्रमित पक्षी के संपर्क में आए या संक्रमित वायु के द्वारा भी संक्रमण फैलता है।


Bird flu से बचने के उपाय :

आइए अब जानते है की बर्ड फ्लू से कैसे बचा जा सकता है, बर्ड फ्लू से बचने के क्या क्या उपाए है?

बर्ड फ्लू से निम्न प्रकार बचा जा सकता है -(बर्ड फ्लू से बचने के लिए निम्न सावधानिया रखना जरुरी है.)
  1. ऐसे पक्षियों से दूर रहे जो खासकर मरे हुए हो ।
  2. Bird flu virus अगर आपके राज्य में है तो ऐसे में नॉनवेज खाने से बचें।
  3. जो नॉनवेज पक्षियों में आते हैं अगर ऐसे नॉनवेज खा ही रहे हो तो नॉनवेज लेते समय साफ सफाई का ध्यान रखें।
  4. संक्रमित एवं प्रदूषित जगह पर ना जाएं।
  5. मास्क पहनकर ही बाहर जाए क्योंकि संक्रमण वायरस वायु द्वारा भी फैलता है।

Bird flu का क्या इलाज है?

इसका इलाज घर पर संभव नहीं है इसके लिए अस्पताल जाना जरूरी है, ज्यादातर संक्रमित case में ICU की अधिक आवश्यकता होती है।

Bird flue का इलाज एंटीवायरल ड्रग और  oseltamivir ( tamifla ) और zanamivir (Relenza) से किया जाता है। बर्ड फ्लू के संक्रमण को रोकने के लिए टीके भी विकसित किए गए हैं, लेकिन इसके व्यापक उपयोग के लिए तैयार नहीं है। अगर आप bird flu से संक्रमित है , अगर आप संक्रमित होने से बचना चाहते तो कुछ सावधानियां अपनाएं जैसे :

  1. भीड़ वाली जगह पर जाने से बचे।
  2. खांसते समय मुंह पर हाथ रखे।
  3. मास्क पहनकर रखें।
  4. अगर आप को बर्ड फ्लू के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो डॉक्टर से परामर्श जरूर ले।


Bird flu के दौरान क्या क्या नहीं खाना चाहिए :

Bird flu के दौरान मांस, अंडा, इन सबसे परहेज ही रखिए तो बेहतर है लेकिन अगर अंडा या चिकन खाना ही हो तो कुछ बातों का विशेष ध्यान दें :
  1. चिकन या अंडे अच्छे से पके हुए हो ।
  2. साफ सफाई का विशेष ध्यान दें ।
  3. अगर पोल्ट्री प्रोडक्ट्स के चिकन को अच्छे से साफ करके पकाया गया हो तो यह कुछ हद तक safe हो सकते है ।
  4. चिकन को कम से कम 70 ℃ पर पकाएं।

****************************************

आज आपने क्या सिखा :

तो आज आपने देखा कि bird flue क्या है कैसे होता है और भी बहुत सी जानकारी जिससे आप bird flue से बचे रहे ।

तो आपको हमारा article कैसा लगा comment करके जरूर बातये , और इस आर्कटिक को share जरूर करे क्योकि bird flue की जानकारी सभी तक पहुचाई जा सके ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां