Eco friendly दिवाली क्या है? Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है?

क्या आपको पता है Eco friendly दिवाली क्या होती है? Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है? आप सभी को दिवाली का महत्व तो पता ही होगा. लेकिन शायद आप नहीं जानते होंगे कि Eco friendly दिवाली क्या होती है,और Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है?

दिवाली भारत का एक सबसे बड़ा अब प्रतीक्षित त्योहार है. लेकिन मानव जाति इस त्यौहार को बहुत ही खतरनाक तरीके से मनाती हैं. दिवाली के दिन Noise pollution, Air pollution बहुत ही ज्यादा फैलाया जाता है. पटाखों की आवाज पटाखों से निकलने वाले जहरीले धुएं के कारण हमारा पर्यावरण इतना प्रदूषित हो जाता है. दिवाली के समय में तो शुद्ध हवा मिलना बहुत ही मुश्किल हो जाता है.


आइए हम जानते हैं Eco friendly दिवाली क्या होती है? Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है?

Eco friendly दिवाली क्या होती है?

आप सभी दिवाली के अवसर पर पटाखे,फुलझड़ीया तो अवश्य जलाते होंगे. आपको जानना जरूरी है कि Eco friendly दिवाली क्या होती है? Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है?

Eco friendly दिवाली उसे कहां जाता है जिस दिवाली में पर्यावरण का ध्यान रखते हुए एनवायरमेंट फ्रेंडली तरीके से हम दिवाली को मनाते हैं. दिवाली के अवसर पर हम Eco friendly तरीके से बिना पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए दिवाली को सिर्फ उत्सव, रोशनी, मिठाईयां, उपहार, स्नेहा, प्यार और परिवार-पड़ोसी के साथ मिलकर बिना पर्यावरण को क्षति पहुंचाए मनाते हैं. उसे इको फ्रेंडली दिवाली कहां जाता है|

आज के समय में Eco friendly दिवाली मनाना बहुत जरूरी है. क्योंकि दिवाली के समय में Noise pollution, Air pollution इतना बढ़ जाता है कि हम जो सांस लेते उसमें बहुत जहरीले पदार्थ केमिकल्स मिले हुए होते हैं. जो हमें धीरे-धीरे करके अंदर से खोखला करते जाते हैं.


Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है?

हम कुछ तरीकों के बारे में बात करेंगे जिस प्रकार से आप Eco friendly दिवाली को आसानी से मना सकते हैं. जिससे पर्यावरण किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं होगा.

1). पटाखों का उपयोग ना करें-

खुशी के समय में क्या जरूरी है पटाखे फोड़ना? पटाखे का खुशी के उत्सव में किसी भी प्रकार का महत्व नहीं होता है. जो पर्यावरण को बहुत ही ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं. पर्यावरण में Noise pollution, Air pollution पटाखों के कारण बहुत ही ज्यादा फैलता है.

2). रंगोली में Organic Colors का उपयोग करें-

रंगोली बनाए लेकिन उसने Neutral, organic colours का उपयोग करें ना कि किसी केमिकल युक्त कलर्स का उपयोग करके आप रंगोली बनाएं.

3). जरूरतमंदों की मदद करें-

अगर आपके पास कोई ऐसी चीज है जो आप के उपयोग में नहीं है. तो आप इसे उन जरूरतमंदों को जरूर दान करें.

4). घर को भारतीय सभ्यता के अनुसार सजाए-

कुछ लोग भारतीय त्योहारों में भी विदेशी चीजों को अपनाते हैं, और अपने घरों को भी विदेशी तरीके से सजाने की कोशिश करते हैं. लेकिन भारतीय सभ्यता इतनी पारंपरिक है कि आप इसे भूल नहीं सकते. कृपया आप विदेशी चीजों का इस्तेमाल ना करें और भारतीय सभ्यता को हमेशा अपनाएं.

5). Eco friendly मोमबत्तियां-

आप Eco friendly मोमबत्तियों का उपयोग कर सकते हैं जो आपको बाजार में आसानी से उपलब्ध मिल जाएगी. यह पर्यावरण को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाती है.

6). दिये अवश्य जलाएं

अपने घर के आंगन, मंदिर, पीपल का पेड़, मुख्य दरवाजे, तुलसी माता, नाली, के पास दीया अवश्य जलाएं.

7). Eco friendly मूर्तियों को लाये अपने घर-

प्लास्टर ऑफ पेरिस बनी हुई मूर्तियों का उपयोग ना करें. दिवाली के शुभ अवसर पर अपने घर में मिट्टी से बनी ही मूर्तियों को लाए उनकी पूजा करें.


आशा करता हूं कि आप को Eco friendly दिवाली क्या है? Eco friendly दिवाली कैसे मनाई जाती है उसके बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी .

Topkhabar89 Team आपसे दरख्वास्त करती हैं कि आप कृपया Eco friendly दिवाली ही मनाए. अपने पर्यावरण को बचाया और विदेशी चीजों का उपयोग ना करें भारत में निर्मित ही प्रोडक्ट का उपयोग करें.

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, और कमेंट करके जरूर बताएं कि यह पोस्ट आपको कैसी लगी. पोस्ट में किसी भी प्रकार का संदेह है या आपको ऐसा लगता है कि इस पोस्ट में कुछ बदलाव होना चाहिए तो आप कमेंट जरूर करें.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ